Skip to main content

Posts

Bhagavad Gita Quotes In Hindi | भगवत गीता के अनमोल वचन - भगवद गीता से कुछ जीवन के सबक

  नमस्कार दोस्तों, ऐसा कोई हिंदुस्तानी नहीं होगा जो भगवद गीता को नहीं जानता होगा.  भगवद गीता एक ऐसा धार्मिक ग्रंथ है, जो मनुश्य को जिंदगी को सही जीने मार्ग बताता है। भगवद गीता एक गुरु और शिष्य में का  सवांद  है।  जिसमे पुरे जीवन का सार है ।  तो चलिये दोस्तों आज हम भगवद गीता में के कुछ अनमोल वचन देखते है  । Bhagavad Gita Quotes In Hindi  किसी दुसरे के जीवन के साथ पूर्ण रूप से जीने से बेहतर है की हम अपने स्वयं के भाग्य के अनुसार अपूर्ण जियें वासना, क्रोध और लालच ये नर्क के तीन द्वार हैं मनुष्य अपने विश्वास से बना है। जैसा वह मानता है वैसा ही वह बन जाता है एक उपहार तब पवित्र होता है जब वह दिल से सही व्यक्ति को सही समय पर और सही जगह पर दिया जाता है, और जब हम बदले में कुछ भी उम्मीद नहीं करते हैं कोई भी व्यक्ति जो अच्छा काम करता है, उसका कभी भी बुरा अंत नहीं होगा, चाहे इस काल में हो या आने वाले काल में. जिसने कर्म त्याग दिया है, उसे कर्म नहीं बांधता। परिवर्तन प्रकर्ति का नियम है आप एक पल में करोड़पति या कंगाल हो सकते हैं आत्मा न तो जन्म लेती है और न ही मरती है आप यहां खाली हाथ आए हैं, और आप
Recent posts

स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार | Top 15 Swami Vivekananda Quotes in Hindi

दोस्तों, हम आज भारत के ऐसे रत्न के विचारों के बारे बात करने वाले है, जिनको किसी परिचय की आवश्यकता नहीं. स्वामी विवेकानंद जी भारत एक महान आध्यात्मिक गुरु थे. उन्होने हिन्दू धर्म का प्रचार पूरे विश्व भर में कर दिया. उनका अमेरिका में विश्व धर्म महासभा में का हिन्दू धर्म के ऊपर का भाषण आज भी लोगो को याद है।  उनके विचारधारा पे बहुत बड़े लोग चलते है. हमारे पंतप्रधान माननीय नरेंद्र मोदी जी भी उनके विचारधारा को मानते है. स्वामी जी के जन्मदिन पर हम राष्ट्रीय युवा दिवस बोलकर मानते है। क्यों उनके विचारधारा, तत्त्वज्ञान भारत के युवावो के लिए बहुत प्रेरणा दायक है.  स्वामी जी एक बहुत अच्छे वक्ता भी थे, उनके भाषण पे अब तक बहुत सारी किताबें छप चुकी है. स्वामी जी की वेदांत और योग गाडे अभ्यासक थे. उन्होंने योग के ऊपर तीन किताबें लिखी है, राजयोग, जनयोग और कर्मयोग।  स्वामी जी का जन्म १२ जनवरी १८६३ में हुआ, उनका जन्म एक बेंगाली परिवार में कोलकत्ता में हुआ. उनका जन्म नाम नरेन्द्रनाथ दत्त था. उनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त और माता का नाम भुबनेश्वर देवी था. स्वामी जी ९ भाई-बहन थे. उनके पिताजी कलकत्ता उच्च न्या